.
Skip to content

वो गरीब थे!

Akib Javed

Akib Javed

कविता

November 10, 2017

वो रात भर ठण्ड से ठिठुरते रहे
छोटे बच्चे थे
गरीब थे
नही थे पैसे कुछ गर्म कपड़े ले ले
किसी ने उनकी सुध ना ली
नही किसी का उनके तरफ ध्यान गया
सब अपने अपने में व्यस्त थे
वो गरीब थे,छोटे बच्चे थे
रहने को घर नही,
खाने को खाना नही,
सोने को छत नही,
क्या करे मजबूर थे
हा वो गरीब जो थे
करुणा,भाव नही किसी का जागा
रात भर वो ठण्ड से ठिठुरते रहे
वो गरीब थे!!

®आकिब जावेद

Author
Akib Javed
कुछ लिखना चाहता हूँ,सोचता हूँ,शब्दो से खेलता हूँ,सीखता हूँ,लिखता हूँ।।
Recommended Posts
ख़ुदी को प्यार मे झोंका नही था ।
ग़ज़ल ख़ुदी को प्यार मे झोंका नही था । ख़ुदी को प्यार मे झोंका नही था । सही है जख़्म भी खाया नही था ।।... Read more
ग़ज़ल।मुहब्बत वो नही होती।
ग़ज़ल। मुहब्बत वो नही होती ।। वफ़ा में इश्क़ में बंदिश इनायत वो नही होती । मिले जो मांगकर चाहत मुहब्बत वो नही होती ।।... Read more
वो हो सकते इंसान नही...
विद्ध्यालय तो बहुत है लेकिन, बचा किसी मे ग्यान नही.. पड़े लिखे सब हो गये है, पर कोई बुद्धीमान नही... शिष्टाचार से रहना सीखो, करो... Read more
वो क्या है!!
तुम हो कि हद मे रह नहीं पाते हम है कि यह सब सह नहीं पाते। वो क्या है जो तुम सुनने को बेताब हो... Read more