Skip to content

वो आह दे

vinay pandey

vinay pandey

लेख

January 16, 2018

वो आह दे जिस से
चाह तो तेरी,
_________________
वो दर्द दे जो तुझे
मेरा दिवाना बना दे!
_________________
जिन मसतों की
नज़रो में है समाया
मुझको उन नज़रों का
नजराना बना दे!
_________________
इस दिल को इश्क़ का
मयखाना बना दे.
_________________
आंखों के हर एक बिंदु का
पैमाना बना दे,
_________________
कुछ कान्हा मुझे बनाना है
तो तेरा मस्ताना बना दे !
_________________
विनय पान्डेय
“”””””””””‘”””‘”””‘”‘”””””””””””

Share this:
Author
vinay pandey
Recommended for you