.
Skip to content

वो आगे और जाना चाहता है

आनंद बिहारी

आनंद बिहारी

गज़ल/गीतिका

October 26, 2016

वो आगे और, जाना चाहता है
मुकाम ऊँचा, बनाना चाहता है।1।

लोगों के काम आए, ताज़िन्दगी
किरदार, यूँ निभाना चाहता है।2।

प्रेम बढे, शांति, ख़ुशहाली भी
कुछ, ऐसा कर जाना चाहता है।3।

सभी हो दोस्त, दुश्मनी रहे क्यूँ
सबके ही, काम आना चाहता है।4।

ख़ार हो तो, फ़कत रखवाली में
दुनिया, ऐसी बनाना चाहता है।5।

जानता है, मानती नहीं ये दुनिया
फिर भी वो, आजमाना चाहता है।6

वो कोई और नहीं, दिल है मेरा
बाहों में इतना, सामना चाहता है।7।

-आनंद बिहारी, चंडीगढ़
Whatsapp: 9878115857

Author
आनंद बिहारी
गीत-ग़ज़लकार by Passion नाम: आनंद कुमार तिवारी सम्मान: विश्व हिंदी रचनाकार मंच से "काव्यश्री" सम्मान जन्म: 10 जुलाई 1976 को सारण (अब सिवान), बिहार में शिक्षा: B A (Hons), CAIIB (Financial Advising) लेखन विधा: गीत-गज़लें, Creative Writing etc प्रकाशन: रचनाएँ... Read more
Recommended Posts
अब दिल लगा कर वो इश्क में सदा के लिए दूर जाना चाहता है
अब दिल लगा कर वो इश्क में सदा के लिए दूर जाना चाहता है समुंद्र में बहती हुई कश्ती का अब वो ठिकाना चाहता है... Read more
"मेरी यादें" मैं फिर से बैंक कॉलोनी के अंतिम मकान में जाना चाहता हूँ... कुछ कच्चे-कुछ पक्के अमरुद और अनार तोड़ना चाहता हूँ मिटटी में... Read more
*** दास्तां-ए-मुहब्बत ***
दास्तां-ए-मुहब्बत सुनाना चाहता हूं गा गीत तुझको रिझाना चाहता हूं ।। सफ़र जिंदगी का भुलाना चाहता हूं आज तुझसे रिश्ता निभाना चाहता हूं।। लगी दिल... Read more
मन का पंछी
दुनिया में चाहने से कुछ नहीं होता चाहते हो तो खुल कर इजहार कर दो इक पंछी बैठा हुआ है डाल पर, उसे उड़ा दो... Read more