.
Skip to content

*वोटों का मौसम है आया*

Dharmender Arora Musafir

Dharmender Arora Musafir

कविता

July 16, 2017

*वोटों का मौसम है आया*

वोटों का मौसम है आया !
संग अपने नेता जी लाया !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
वादे करके मीठे – मीठे !
भोली जनता को भरमाया !! 
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
बस कुरसी की खातिर सबने  !
भाई  – भाई को लड़वाया !!
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
कौन है अपना कौन पराया !
मन बेचारा जान न पाया !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
साम-दाम और दंड-भेद का !
चहुंओर ही जाल बिछाया !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
जात-पात का भ्रम फैलाकर !
आपस में सबको लड़वाया !!
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
प्रेम-भाव और नैतिकता को !
खुद से कोसों दूर भगाया !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
वाह रे मेरे देश का मानव !
समझ सका न इनकी माया !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::

धर्मेन्द्र अरोड़ा “मुसाफ़िर”
9034376051

Author
Dharmender Arora Musafir
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान *
Recommended Posts
* बारिश का मौसम *
बारिश का मौसम आया । मौसम सुहाना लाया ।। चहकेंगे पक्षी महकेगी खुशबू । खुशियों की सौगात लाया ।। बारिश का मौसम आया । मौसम... Read more
राखी का दिन
रक्षाबंधन का दिन भाई-बहिन के प्यार का दिन आया रक्षाबंधन के त्योहार का दिन आया भाई की कलाई पे बहिन बांधे रखी जिस दिन वो... Read more
होली की याद
होलि का त्यौहार हे आया सब के मन को भाया है। नये विचारो से रंगने का फिर से मौसम आया है।। कभी था गौबर कभी... Read more
*मन मयूर*
खुशियों का मौसम आया है सुखों का आलम छाया है मन मयूर ने चहक चहक कर इक मधुरिम राग सुनाया है *धर्मेन्द्र अरोड़ा*