.
Skip to content

वेलेंटाइन पर गजल

मधुसूदन गौतम

मधुसूदन गौतम

गज़ल/गीतिका

February 27, 2017

लो सुनो अब हाल दिल क्या हो गया।
इश्क का ही भूत सारा हो गया।* 0*
*
साथिया होती है मजबूरी कभी।
देखिये तो फिर भी लिखना हो गया।*1*
*
दान देते सब समय का कीमती।
वक्त मिलना ज्यूँ फ़साना हो गया।*2*
*
कुछ समय के बाद मिलते है सभी।
वक्त सबका अब सयाना हो गया।*3*
*
हो गई है जीस्त भी फ़ुटबाल सी।
क्या करें इन्सां खिलौना हो गया।*4*
*
मधु उलझ इतना गया है दोसतो।
इश्क में जैसे दी’वाना हो गया।*5*
*
तुम चले आओ यहां तन्हाई’ है।
दिल निठ्ठलो का ठिकाना हो गया।*6*
*
रोज़ डे तो कल मनाया आपने।
अब तो परपोज़ल पुराना हो गया।*7*
*
मार मम्मी की मगर ऐसी पड़ी।*
यूँ प्रपोज़ल का दिवाला होगया।*8*
*
रोज़ डे बीता बिना ही फूल के।
यार दिल का तो कबाड़ा हो गया।*9*
*
आग दहकी इश्क की जब सीप में।
सीप का मोती बिचारा हो गया।*10*
*
पीत पत्ता इश्क का पड़ तो चला।
प्यार का पौधा भी पीला हो गया।*11*
*
यह विलेंटाइन बना मेरे लिये।
ख्वाब सारा प्यार चूरा हो गया।*12*

*
क्या करूँ चुम्बन दिवस का अब भला।
खेल सारा ‘मधु’अधूरा हो गया। 13*

******मधु सूदन गौतम

Author
मधुसूदन गौतम
मै कविता गीत कहानी मुक्तक आदि लिखता हूँ। पर मुझे सेटल्ड नियमो से अलग हटकर जाने की आदत है। वर्तमान में राजस्थान सरकार के आधीन संचालित विद्यालय में व्याख्याता पद पर कार्यरत हूँ।
Recommended Posts
थोड़ा इश्क़
तुम समय काटने के लिए, इश्क़ का सहारा लेते हो! ग़ालिब की ग़ज़ले सुनकर बड़े हुएं, और अब ग़ालिब से बड़ा होना चाहते हो! तुमने... Read more
ग़ज़ल (वक़्त की रफ़्तार)
ग़ज़ल (वक़्त की रफ़्तार) वक़्त की रफ़्तार का कुछ भी भरोसा है नहीं कल तलक था जो सुहाना कल वही विकराल हो इस तरह से... Read more
ग़ज़ल- अब वक्त ही बचा नहीं...
ग़ज़ल- अब वक्त ही बचा नहीं... मापनी- 221 2121 1221 212 ●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●● अब वक्त ही बचा नहीं' भगवान के लिए यूँ प्यार आ रहा किसी'... Read more
ग़ज़ल( समय से कौन जीता है समय ने खेल खेले हैं)
ग़ज़ल( समय से कौन जीता है समय ने खेल खेले हैं) अपनी जिंदगी गुजारी है ख्बाबों के ही सायें में ख्बाबों में तो अरमानों के... Read more