वेब सीरीज फिल्मो के अभिन्न अंग अभिनेता अली फजल :- एक नजर

नमस्कार स्वागत है आप सबका नारद टीवी पर । दोस्तो आप जब भी कोई फिल्म देखते है चाहे वह बॉलीवुड की हो हालीवुड या अन्य टैग की फिल्मे उसमे सबसे ज्यादा आपका ध्यान उस फिल्म में मुख्य किरदार निभाने वाले के अभिनय पर होती है और बाकियो पर कम जैसे की आप किसी गाने को ही उठाकर देख लीजिए । उस गाने में मुख्य किरदार निभाने वाले को ज्यादा हाइलाइट किया जाता है जबकि उनके पीछे डांस करने वाले को कम । अब आप सोच रहे होंगे की आज के इस एपिसोड मे हम किसकी बात करने वाले है । जिसके बारे मे जानने के लिए आप काफी रोमांचित हो रहे होंगे।तो आइए बिना किसी देरी के शुरू करते है आज का वीडियो । जिसमे हम आज उस सितारे की बात करेंगे जो आज के दौरे में बालीवुड फिल्मो में हिट होते हुए भी हमारे आपके नजरो से दूर है जिनको हम कई फिल्मो में बतौर अभिनय करते हुए देखते तो है पर उनके अभिनय का जिक्र तक नही करते और न ही उनके बारे मे जानने का प्रयास ही करते है । क्योंकि वह किसी फिल्म में मुख्य किरदार न निभाते हुए एक छोटे से किरदार में नजर आते है जिन्हे कैमियो रोल कहते है । लेकिन वे अपने उस छोटे से किरदार से ही उस फिल्म में अपने अभिनय की एक ऐसी छाप छोङते है की उतना उस फिल्म में मुख्य भूमिका में नजर आने वाले के अभिनय को नही सराहा जाता ।
जितना की किसी फिल्म में कुछ ही समय के लिए नजर आने वाले एक छोटे से कलाकार के अभिनय को सराहा जाता है । और आज हम एक ऐसे ही हरफनमौला जीवंत अभिनय करने वाले कैमियो एक्टर की चर्चा करेंगे जिनका नाम अली फजल है । जो बालीवुड में ही नही बल्कि हालीवुड फिल्मो में भी कैमियो रोल मे अभिनय करते हुए नजर आए । जो एक्टर के साथ एक मॉडल भी है और जो आज के समय में वेब सीरीज फिल्मो का एक अभिन्न अंग बन चुके है ।
अगर अली फजल के शुरुआती जीवन की तरफ रूख करे तो इनका जन्म 15 अक्टूबर 1986 को नवाबो के शहर लखनऊ में एक मध्यमवर्गीय मुस्लिम परिवार मे हुआ था । अली फजल जब महज 18 साल के थे तभी इनके माता- पिता के बीच तलाक हो गया ।
जिसके कारण अलीफजल को उनकी मां अपने मायके लेकर चली आई जहां वे अपने नाना-नानी की देखरेख मे पले बढे ।फैजल के पिता का नाम मोहम्मद रफीक है जो मध्यपूर्व के देश मे एक फर्म मे काम करते थे । अली फैजल का परिवार इलाहाबाद यानि की आज के प्रयागराज से सम्बंध रखता है जहां के वे निवासी थे और उनका बचपन गंगा नदी के तटो के आसपास बीता । अली फजल की प्रारम्भिक शिक्षा -दीक्षा लखनऊ के लॉ मार्टिनरी कॉलेज और द दून बोर्ड स्कूल देहरादून मे हुई । सन् 2004 में अली फजल अपने चचेरे भाई आमीन हुसैन के साथ स्कूल के एक नाटक मे भाग लिए जिसमे उन्हे विलियम शेक्सपियर के नाटक The Tempest में ट्राईनकुलो की भूमिका निभाने के लिए चयनित किया गया था । और यही से यह मालूम हो गया था की अली फजल के अंदर अभिनय कूट कूटकर भरा है और पूत के पांव पालने मे ही दिखने लगे थे । हालांकि अली फजल एक पायलट बनना चाहते थे पर घर वालो के मना करने के कारण वे उस ख्वाब को छोङ दिए । और तब उन्होने रूख किया मायानगरी मुम्बई की तरफ। अली फजल ने मुम्बई के सेंट जेवियर कालेज से इकोनॉमिक्स मे ग्रेजुएट की है ।
उसी दौरान ही अलीफजल ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत की और वो नजर आए सन् 2008 मे जेम्स डैडसन द्वारा निर्देशित हालीवुड फिल्म ” द अदर एण्ड द लाइन “मे जिसमे इन्हे एक छोटे से किरदार के लिए चुना गया था जिसमे इनके किरदार का नाम “विज” था ।
उस फिल्म में उनके अभिनय की उत्कृष्टता को देखते हुए इन्हे सन् 2009 की अमेरिकी टेलीविजन मिनीसीरीज की फिल्म “बालीवुड हीरो” मे काम करने का मौका मिला । जिसमे इनको मोण्टी कपूर के रोल मे अभिनय करते हुए दिखाया गया था जिसको इन्होने पूरे तल्लीनता और गहराई से निभाया था । जब इनके इस किरदार को भारतीय निर्देशक सईद अख्तर मिर्जा ने देखा तो अली फजल से बङे प्रभावित हुए, और इन्होने अली फजल को सन् 2009 की अपनी फिल्म “एक थो चांस ” मे पहला ब्रेक दिया । जिसमे इनके साथ अमृता अरोरा, सौरभ शुक्ला और विजयराज ने काम किया था । इस फिल्म में मुम्बई में रहने वाले लोगो के दैनिक जीवन को एक हास्यास्पद शैली में दिखाया गया था । जिसका प्रदर्शन केरल के 14 वे फिल्म महोत्सव मे भी किया गया था । अली फजल ने सन् 2009 मे ही एक और फिल्म मे काम किया था जो राजकुमार हिरानी द्वारा निर्देशित फिल्म 3 इडियट्स थी जिसको उस वर्ष का नेशनल फिल्म आवार्ड भी मिला था इस फिल्म की कहानी उपन्यासकार चेतन भगत के उपन्यास फाइव प्वाइंट समवन पर आधारित था । इस फिल्म मे अली फजल को काम मिलने का किस्सा भी बङा रोचक है । वह किस्सा यह है की अली फजल एक दिन जब जूहू स्थित पृथ्वी थिएटर में एक नाटक कर रहे थे तो उसी दौरान उनकी जीवंत अदायगी पर उस नाटक को प्रोड्यूस करने वाले की नजर पड़ी और उसने अली फजल को राजकुमार हिरानी के पास भेज दिया । राजकुमार हिरानी ने तो पहले इन्हे गौर से देखा और इनको अपने फिल्म 3 इडियट्स मे एक रोल ऑफर किया जो यह करने के लिए मान गए और उन्हे एक छोटा सा कैमियो रोल मिल गया उस फिल्म में अली फजल ने एक इंजीनियर स्टुडेंट की भूमिका निभाई थी जिसमे इनके किरदार का नाम जॉय लोबो था ।और वह एक इंजीनियर बनना चाहते है उन्होने उस फिल्म मे एक प्रोजेक्ट बनाया था जिसको उन्होने उस फिल्म में इंजीनियर टीचर की भूमिका निभाने वाले बोमन ईरानी को दिखाया पर बोमन ईरानी ने अली फजल की प्रोजेक्ट की सराहना न करते हुए उनकी प्रोजेक्ट की तरफ देखा तक नही जिसके कारण वो काफी टूट गए और जाकर आत्महत्या कर लेते है ।यही एक छोटा सा किरदार था अली फजल का लेकिन उस छोटे से किरदार मे ही उन्होंने अपने अभिनय से सभी को भावुक कर दिया । सन् 2011 मे शाहरुख खान ने इन्हे अपने प्रोडक्शन हाउस रेड चिली एण्टरटेनमेण्ट के बैनर तले बन रही फिल्म “आलवेज कभी-कभी “मे अभिनय करने का मौका दिया ।
जिसमे अली फजल ने समीर खन्ना की भूमिका निभाई थी और उस रोल को करने के लिए उन्होने उस दौरान अपना 15 किग्रा वजन घटाया था । इस फिल्म मे वे अभिनेत्री गिसेली मोण्टरो के विपरीत भूमिका निभाते हुए नजर आए थे और यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर हिट साबित हुई थी ।अब ऐसे ही छोटे-छोटे किरदारो से ही अली फजल फिल्मी करियर परवान चढने लगा था और उन्होंने बालीवुड फिल्मो में अच्छी-खासी पकङ भी बना ली और इनको फिल्मो मे काम करने के लिए ढेरो सारे ऑफर मिलने सन् 2013 में अली फजल ने कॉमेडी फिल्म “फुकुरे” मे जबरदस्त अभिनय किया था जिसमे इन्होने जाफर की भूमिका निभाई थी जिसको दर्शको ने खूब सराहा । सन् 2013 मे ही अली फजल एक बार फिर से एक ऐसे ही कॉमेडी और रोमांटिक फिल्म “बात बन गई “में नजर आए जिसमे इन्होने दो किरदार निभाया था पहला किरदार इन्होने कबीर का निभाया था जो उस फिल्म में सिंगापुर का एक सफल नॉवेलिस्ट था और दूसरा रोल इन्होने रसिया बिहारी का निभाया था जो की उस फिल्म में एक लोकल डॉन के रूप मे नजर आए थे । जो बहुत ही जीवंत अदायगी थी । अली फजल की फिल्मो मे की गई अभिनय की फेहरिस्त इतनी लम्बी है की हम सीमित समय मे उनके सारे किरदारो की विस्तृत चर्चा नही कर सकते । सन् 2014 मे आई फिल्म बॉबी जासूस मे तसावुर शेख की भूमिका मे नजर आए थे । और उसी वर्ष आई फिल्म “सोनाली केबल “मे इन्होने रघु की भूमिका निभाई और सन् 2015 में आई फिल्म खामोशियां मे इन्होने कबीर मल्होत्रा के रोल मे दर्शको का ध्यान अपनी तरफ खींचा । अली फजल ने बालीवुड फिल्मो मे ही नही बल्कि हालीवुड के भी कई बेहतरीन फिल्मो मे अभिनय किया है ।
सन् 2015 मे आई हालीवुड फिल्म फास्ट एण्ड फ्यूरियस 7 मे ये एक कॉमिक रोल निभाते हुए नजर आए जिसमे इनके किरदार का नाम”सफर” था । और वही पर 2017 में आई फिल्म “विक्टोरिया & अब्दुल ” में अली फजल ने महारानी विक्टोरिया के विश्वासपात्र नौकर अब्दुल करीम का बहुत ही अद्भुत किरदार निभाया था । जिसकी प्रशंसा पूरे विश्व मे की गई ।
अली फजल पहले ऐसे युवा अभिनेता है जिन्होने बहुत ही कम समय मे हालीवुड फिल्मो मे भी अपनी मजबूत पकङ बना ली है । अली फजल को तो सबसे अधिक लोकप्रियता तो तब मिली जब वो वेब सीरीज की फिल्म मिर्जापुर मे गुड्डू पण्डित यानि की गुड्डू भईया का किरदार निभाया था और ये इस फिल्म से दर्शको के मन-मस्तिष्क में इस तरह रच बस गए की लोग इनके डायलॉग की कॉपी करने लगे और जहां भी कही ये जाते इनको गुड्डू भईया वाला डायलॉग बोलने को कहा जाता और इनके डायलॉग सुनकर दर्शको को खूब मजा आता है और वो हंसी से लोट-पोट हो जाते है । अली फजल की शादी इसी वर्ष रिचा चड्ढा से होने वाली थी जो भी एक फिल्म अभिनेत्री ही है और वो फुकुरे फिल्म में उनके साथ नजर भी आई थी और वही से अली फजल का रिचा से अफेयर था ।
और वो उस प्यार को इसी वर्ष शादी मे बदल देना चाहते थे पर वैश्विक महामारी कोरोना के मद्देनजर उन्होने अपनी शादी कुछ समय के टाल दी है । नारद टीवी इस युवा अभिनेता के हौसले और संघर्ष की सराहना करते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना करती है ।

Like 2 Comment 3
Views 6

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share