.
Skip to content

वेगवती छन्द

मधुसूदन गौतम

मधुसूदन गौतम

गीत

June 4, 2017

*◆वेगवती छंद(अर्ध सम वर्णिक)◆*
विधान~ 4 चरण,2-2 चरण समतुकांत।
विषम पाद- सगण सगण सगण गुरु(10वर्ण)
112 112 112 2
सम पाद-भगण भगण भगण गुरु गुरु(11वर्ण)
211 211 211 2 2

कब सांस यहाँ पर छूटे।
या कब जीवन का फल टूटे।
मनवा हमको बस जीना।
सोच यही सब ही गम पीना।

गिरते पड़ते चलना है।
जीवन में सबसे लड़ना है।
सत कर्म यहां करना है।
अन्त यहाँ सबको मरना है।

*****मधुसूदन गौतम

Author
मधुसूदन गौतम
मै कविता गीत कहानी मुक्तक आदि लिखता हूँ। पर मुझे सेटल्ड नियमो से अलग हटकर जाने की आदत है। वर्तमान में राजस्थान सरकार के आधीन संचालित विद्यालय में व्याख्याता पद पर कार्यरत हूँ।
Recommended Posts
गीतिका छंद
◆ गीतिका छंद ◆ विधान~ [सगण जगण जगण भगण रगण सगण+लघु गुरु] (112 121 121 211 212 112 12) 20वर्ण, 10-10 वर्णों पर यति, 4... Read more
गीतिका छंद
◆ गीतिका छंद ◆ विधान~ [सगण जगण जगण भगण रगण सगण+लघु गुरु] (112 121 121 211 212 112 12) 20वर्ण, 10-10 वर्णों पर यति, 4... Read more
? गुरु वंदन ?
? गुरुपर्व की अनंत मङ्गल कामनाएं ? ?? पवन छंद ?? ?शिल्प~ [भगण तगण नगण सगण]? (211 221 111 112) 12 वर्ण प्रति चरण,यति{5,7} 4... Read more
भाम छ्न्द
भाम छंद◆* विधान~ [ भगण मगण सगण सगण सगण] ( 211 222 112, 112 112) 15 वर्ण, यति 9-6 वर्णों पर,4 चरण दो-दो चरण समतुकांत]... Read more