वृक्ष

वृक्ष
|||||||||||
पेड़ होते भूमि की नित——–शान हैं।
सृष्टि का भूलोक पर——-वरदान हैं।

सब निराले गुण समेटे हैं——-विटप,
फल हवा औषध दिए कुल –दान हैं।

दर्ज पन्नों में रहा इतिहास ——-अब,
बोधि तरु अरु कल्पतरु अभिज्ञान हैं।

है धरा पर रोपना बहुधा ———इन्हें,
फिर बचेगी मनुज तेरी ——-जान हैं।

फिर शुरू हो मैती’ चिपको —-से बड़े,
पूर्व में फूले फले ———-अभियान हैं।

बन्द होना चाहिए वन ———काटना,
रोपने तरु जो धरा ———-परिधान हैं।
****************************************** नीरज पुरोहित रुद्रप्रयाग(उत्तराखण्ड)

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 10

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share