.
Skip to content

वृक्षों का दरबार

Rita Singh

Rita Singh

कविता

December 23, 2016

देखी जंगल में भी एक बस्ती
एक से एक बड़ी वहाँ हस्ती ।
रहते वृक्ष इंसाँ की भाँति
करते बहुत वहाँ वो मस्ती ।
बरगद पेड़ों का बन राजा
जब चाहे एक सभा बुलाता ,
घनी घनी अपनी छाया में ,
वृक्षों का दरबार लगाता ।
जटा बने हाथों से अपने
सब को है आदेश सुनाता ,
सेनापति बनाकर पीपल को
पेड़ों की रक्षा करवाता ,
आम वृक्ष बना महामंत्री
जंगल का पोषक बन जाता ।
नीम चिकित्सक बन खड़ा हो
औषधियों का निर्माण कराता ,
दे आदेश सब पुष्प पौधों को
वन भवन में महक बिखराता ।
चीड़ ,साल, सागौन, कीकर
सब उसके ही दरबारी हैं ,
जंगल की ही भरी सभा पर
स्वस्थ धरा यह सारी है ।

डॉ रीता
आया नगर,नई दिल्ली

Author
Rita Singh
नाम - डॉ रीता जन्मतिथि - 20 जुलाई शिक्षा- पी एच डी (राजनीति विज्ञान) आवासीय पता - एफ -11 , फेज़ - 6 , आया नगर , नई दिल्ली- 110047 आत्मकथ्य - इस भौतिकवादी युग में मानवीय मूल्यों को सनातन... Read more
Recommended Posts
कागज बचाओ पेड़ बचाओ
कागज का उचित प्रयोग करो दुरूपयोग न इसका आज करो कल को तुम्हें संवारना है पर्यावरण को भी संभालना है कागज को अगर बचाओगे पेड़ोंकी... Read more
साथ ऐसा तुम मेरा निभाया करो
साथ ऐसा तुम मेरा निभाया करो, मेरे जीवन का साया बन जाया करो। थककर ठहरूँ मैं जब भी घनी धूप में, तुम पेड़ों की छाया... Read more
मकानों के जंगल
धराशायी होते जा रहे हैं वृक्ष, उग रहे हैं मकानों के जंगल, उजड़ रहे प्राकृतिक आवास, मानव मानव का कर रहा ह्रास, पशु आ रहे... Read more
कल्पतरु चालीसा
स्वामी विद्यानंद जी, नरहरि केशवानंद। साईंधाम की पुण्यधरा पर, चहु ओर आनंद।। कल्पतरु अभियान है, कदम्ब का अवतार। जड़बुद्धि'कल्प' बखान करे,जीव-जगत का सार।। अँगना तुलसी... Read more