23.7k Members 49.8k Posts

वीरांगना

शशि मुख पर घूंघट डाले
आँचल में विरह दु:ख लिए
जीवन के गोधूलि में
कौतूहल से तुम आयी .
नवयौवन में अर्धांगिनी
बनकर तुम आयी
अभी तो मुकुट बंधा था माथ
हुए कल ही मेहन्दी के हाथ
खुली भी नहीं थी लाज की लीर
खुली भी नहीं चुंबन शून्य कपोल
बंद डाक आ गया शरहद का पैगाम ,
भीतर भीतर घुट- घुट कर
तन मन से विरह दुख सहती
वियोग में बैठी प्राणेश के घर
शरहद की ओर सवाँरति नजर
पत्नी बनकर भी मिला न
दपंति जीवन का सुख .
तरूणाई से भरा ह्रदय
नहीं मिटता विरह का दुख
हे ! विरानी सावन तेरा
सुखा ही रहा !!
शरद गम का गर्म ही रहा
लेकिन ,निभा लिया तुमने
वियोगी का विरह कर्त्तव्य
जिस से भारत माता की लाज रही
पता हैं मुझे तेरे विरह जीवन
जिसमे साँस नजर नहीं आती
है एक तत्व जो धड़क रहा हैं
तेरे ह्रदय में दृडविश्वास-का
प्रिय मौन एक तरंग-सा !!!

Like Comment 0
Views 137

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
Copy link to share
लीलाधर मीना
लीलाधर मीना
7 Posts · 626 Views