.
Skip to content

विसर्जन

पं.संजीव शुक्ल

पं.संजीव शुक्ल

कविता

October 3, 2017

विसर्जन…………
………………………..
कल तक माँ के चरणों में पड़ा था
आज मूर्ति विसर्जन को सबके संग खड़ा था
ऐसा लगा जैसे कुछ छूट रहा है
हृदय के अंदर कुछ टूट रहा है
सब उत्साह में माँ की जय बोल रहे थे
प्रकृति के उलझे नियमों को खोल रहे थे
मैं स्तब्ध एक ओर खड़ा था
पता नहीं किस सोच में पड़ा था
देख रहा था भुलते भागते छड़ों को
खुद की हाथों से छूटते हुये
माया – मोह के बन्धन को
एक-एक कर टूटते हुये।
मन जहाँ रम जाय
वहीं भक्ति का प्रयाय बन जाता है
मानव जीवन का आधार बन जाता है
मन का विश्वास ही है जो
मिट्टी की मूरत में जान नजर आता है
एक निर्जीव पत्थर भी भगवान नजर आता है
विश्वास से रिश्ता है मोह का
बंधन और विछोह का
प्रेम के उत्कर्ष का
भक्ति के चर्मोत्कर्ष का
भावनाओं के उमड़ते सागर का
विछोह भरे गागर का
विछोह जो कोई अपना रुठे
भक्त से भगवान का संग छूटे
मन कहता है प्रकृति को
रीत निभाने न दूंगा
अपनो को अपने से दूर जाने न दूंगा
फिर भी वक्त के आगे
हर इंसान झुक ही जाता है
साथ चाहे किसी का हो
छूट ही जाता है।
यादे रह जाती है जीवन ढल जाता
काल के गाल में गल जाता है
हर उत्सव के बाद
एक स्याह दिन अवश्य आता है
तभी तो पूजनोपरांत मूर्ति विसर्जन को जाता है।।……
……..पं.संजीव शुक्ल “सचिन”

Author
पं.संजीव शुक्ल
मैं पश्चिमी चम्पारण से हूँ, ग्राम+पो.-मुसहरवा (बिहार) वर्तमान समय में दिल्ली में एक प्राईवेट सेक्टर में कार्यरत हूँ। लेखन कला मेरा जूनून है।
Recommended Posts
मैं थका था पर मुझे चलना पडा़।
इश्क में क्या क्या नहीं सहना पड़ा।। मैं थका था पर मुझे चलना पड़ा।। उस सितमगर से हुआ जब प्यार तो। हर घड़ी मुझको यहाँ... Read more
पढ़ने की ललक हम भी लियें हुये!                राष्ट्रीय शिक्षा दिवस पर एक कविता बाल मन को प्रदर्शित करती हुई।
मन भोला भाला लिये हाथ में झोला लिये हुये मुट्ठी में अपने जँहा लिये आँखों में सपने सजाये हुये ख्वाबो को सच करने की चाहत... Read more
==* जहाँ मैं खड़ा था *== (गजल)
नजारा नशीला जहाँ मैं खड़ा था गवारा नही लौटना मैं खड़ा था नदी सामने बेतहाशा हसीं थी न मंजूर वो भापना मैं खड़ा था जरासा... Read more
फिर तल्ख़ियों का लुक़्मा निगलना पड़ा मुझे
ग़ज़ल ---------- 221 2121 1221 212 मतला माँ बाप से बिछड़ के सँभलना पड़ा मुझे इस जिंदगी को ऐसे बदलना पड़ा मुझे ????????? किस्मत भी... Read more