.
Skip to content

विष दिया प्याले में उसने सामने ही घोलकर

गुरचरन मेहता 'रजत'

गुरचरन मेहता 'रजत'

गज़ल/गीतिका

June 8, 2016

============================
दिल दुखाया फिर किसी ने राज़ मेरे खोलकर
विष दिया प्याले में उसने सामने ही घोलकर

चुपके से आया था मेरीे जिंदगानी में कभी
जा रहा है आज मुझको जाने क्या क्या बोलकर

झुर्रियां चेहरे पे दस्तक दे रही हैं दिलरुबा
फायदा क्या तेरे आगे पीछे यूँ ही डोलकर

मैं भी झुक जाता अगर वो बात करता प्यार से
मेरी सुनता अपनी कहता नाप कर औ तोलकर

दूसरों की ग़ल्तियों पर क्यूं उठाता उँगलियां,
इस से पहले तू रजत ख़ुद अपना भी तो मोल कर.
============================
गुरचरन मेहता :रजत:

Author
गुरचरन मेहता 'रजत'
दिल्ली में दवा की दूकान, (कैमिस्ट) बी.ए. छंदमय/छंदमुक्त/गीत/ग़ज़ल/गीतिका/मुक्तक/ आदि में प्रयासरत, एक विद्यार्थी,
Recommended Posts
होते हैं इश्क में अब देखो कमाल क्या क्या..
होते हैं इश्क में अब देखो कमाल क्या क्या. मेरे ज़बाब क्या क्या उनके सवाल क्या क्या. मुझपे उठा के ऊँगली वो चुप रहा मगर... Read more
***  कवि तेरी क्या कामना ***
कवि तेरी क्या कामना,हुआ जो आमना-सामना । देखा उसने हमें इस तरहा,जैसे हो सामने बालमा। कवि .. ..सामना। पहले-पहल नजरें मिलाई,फिर उसने पलकें गिराई। धीरे-धीरे... Read more
विधा कविता क्या कहूँ
क्या कहूँ वो आई चुपके से कार पे क्या कहूँ। आज टीम ने पकड़ा मैं क्या कहूँ।। पुलिस हाथ मलते रह गयी क्या कहूँ। बेटी... Read more
ग़ज़ल- आज ये क्या किया सनम तुमने
ग़ज़ल- आज ये क्या किया सनम तुमने ★★★★★★★★★★★★★ आज ये क्या किया सनम तुमने जो न सोचा दिया वो गम तुमने तेरे प्याले में था... Read more