Mar 5, 2021 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

विश्वास

विश्वास उतना ही किजिए,
कर ना सके कोई घात ।
मतलब की दुनिया है भाई,
बगल में आस्तीन के सांप ।।

बगल में आस्तीन के सांप,
भइया रहिए जरा बचके ।
जहां ज्यादा करत विश्वास,
अक्सर वहीं होवे घात ।।

जहां होवे घात,
वहां फिर कभी न होत विश्वास ।
एक वार ये टूट गया,
फिर मन में पड़ जावे गांठ ।।

पड़ जावें गांठ ,
जीवन में न बचें मिठास ।
कर्म ऐसे कीजिए,
न टूट पाय विश्वास ।।

डां. अखिलेश बघेल
दतिया (म.प्र.)

1 Like · 120 Views
Copy link to share
Dr. Akhilesh Baghel
48 Posts · 6k Views
Follow 10 Followers
B.A.M.S., M.A., M.PHIL(HINDI) याद कर तेरा चेहरा रात कट जाती है, तू नहीं आती मगर... View full profile
You may also like: