.
Skip to content

विश्वास की गली में ये ज़िन्दगी पली है

Dr Archana Gupta

Dr Archana Gupta

गीत

September 7, 2016

विश्वास की गली में
ये ज़िन्दगी पली है
देती है दर्द अक्सर
लगती मगर भली है

होती शुरू किरण से
हर भोर की कहानी
आती है चाँदनी से
हर रात पे जवानी
यह साथ साथ इनके
चुपचाप ही चली है

है आज गम जहाँ पर
कल थी ख़ुशी वहाँ पर
यह छीन भी तो लेती
देती अगर यहाँ पर
है खार तो कहीं ये
खिलती हुई कली है

होती है ज़िन्दगी तो
बस प्यार की अमानत
चुन फूल नफरतों के
करना सदा इबादत
बरबाद तब हुई ये
नफरत में जब जली है

डॉ अर्चना गुप्ता

Author
Dr Archana Gupta
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख... Read more
Recommended Posts
जिन्दगी
Raj Vig कविता Apr 29, 2017
माया के चक्र मे भ्रमित है हर इक जिन्दगी अधूरी इच्छाओं से ग्रसित है हर इक जिन्दगी । चिन्ताओं के भंवर मे कल्पित है हर... Read more
मुक्तक
कभी जिन्दगी खुशी का पैगाम देती है! कभी जिन्दगी ख्वाबों का सलाम देती है! रस्म की जंजीरें हैं राहों में हरतरफ, ख्वाहिशों को जख्मों का... Read more
जिन्दगी ऐ जिन्दगी
जिन्दगी ऐ जिन्दगी कैसी कयामत लाई है दोस्तों के नाम की ढेरों शिकायत लाई है। जिन्दगी ऐ जिन्दगी तेरा अलग ही फ़लसफा ख़्वाब के ही... Read more
उलझन
उलझन उलझनों के झुर्मुटो का शहर सी यें जिन्दगी। जुग्नुओ से क्षण खुशी के दर्शाती सी यें जिन्दगी। सुखद क्षणो मे गाती गुनगुनाती सी यें... Read more