[[[ विविध रंग ]]]

विविध रंग (हाइकु)
// दिनेश एल० “जैहिंद”

मन नौरंगी
जीवन सतरंगी
इंद्रधनुष //

दुख, आनंद
है विविध तरंग
जीवन-संग //

जग है व्योम
मन खग समान
उड़े अनंत //

हर्ष है इत्र
जीवन है विचित्र
गंभीर चित्र //

सीमा पे गोली
आँगन में ठिठोली
त्योहार होली //

चित्र ये चार
काम, क्रोध, घमंड
लोभ विचार //

≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈
दिनेश एल० “जैहिंद”
03. 03. 2018

Like Comment 0
Views 1

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing