.
Skip to content

विविधता

avadhoot rathore

avadhoot rathore

मुक्तक

August 12, 2017

अलग-अलग उदधि-लहरें,लगतीं हैं पर यार,
हिल-मिल सब संग रहतीं,अलग नहीं है यार,
विविध-विविध सा बहुत है,रंग,धर्म अरु जात,
विविध-विविध गुलों से ही,शान बाग़ की यार।।

Author
Recommended Posts
आँखो में चाँदनी है चेहरे पे सादगी है
मतला- आँखो में चाँदनी है चहरे पे सादगी है। तितली हवा नदी जैसी मेरी हमनशी है। माना कि बंद रखता है तू जुबान अपनी, पर... Read more
‘धन  का मद गदगद करे’ [लम्बी तेवरी -तेवर-शतक]  +रमेशराज
कितने विश्वामित्र, माया के आगे टिकें इत्र सरीखा दे महक धन -वैभव हर बार । 1 अब मंत्री-पद पाय, मुनिवर नारद खुश बहुत धन का... Read more
मै लिखता जो गीत नही है जीवन की सच्चाई है !!
मै लिखता जो गीत नही है जीवन की सच्चाई है ! जब जब भी दुःखदर्द है देखा अपनी कलम चलाईं है !! जब घुटनों के... Read more
ग़ज़ल (ये जीबन यार ऐसा ही )
ग़ज़ल (ये जीबन यार ऐसा ही ) ये जीबन यार ऐसा ही ,ये दुनियाँ यार ऐसी ही संभालों यार कितना भी आखिर छूट जाना है... Read more