विरह वसंत

पिया नहीं आये सखी,क्यों आ गया बसंत।
दहके टेसू-सा बदन,तृष्णा भरे अनंत।। १

कोयलिया कुहके सखी, सुध बुध लेती छीन।
बौराई हूँ आम सी,तन हो गया मलीन।।२

पिया अनाड़ी नासमझ, कौन इन्हें समझाय।
ऋतु वसंत का आ गया,घर वो भी आ जाय।।३

हवा बसंती जब चले, महके पुष्प पराग।
मस्ती मादकता बहुत, बढ़ी विरह की आग।।४

चले बसंती जब पवन , नस-नस उठती आग।
लगी लड़खड़ाने घटा, मन मचले अनुराग।। ५

प्रेमी प्रियतम नाम से, लिखा प्रणय का पत्र।
प्रिय वसंत का आगमन, काम उठाया शस्त्र।।६

आओ प्रियतम हम रचे, सपनों का संसार।
प्रेम सुधा अंतस भरे, झूमे मस्त बहार।। ७

मन भीतर पतझड़ रहा, बाहर रहा वसंत।
एक आग जलती रही, प्रिय बिन ऋतु का अंत।। ८

आज खिला अंतस चमन, मधुर मिलन की आस।
ताप विरह झेला बहुत, अब आया मधुमास।। ९

-लक्ष्मी सिंह

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 20

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share