विरहणी

अक्षर अक्षर नाम तुम्हारे करती हूँ..
जब मैं इस जीवन के पन्ने भरती हूँ..
~~~~~~~~~~~~~~~
कलियां हों या हों कंटक इन राहों में…
बाधाओं से कब किंचित मैं डरती हूँ…
~~~~~~~~~~~~~~~
बीत रहे हैं पल बहती सरिता जल से…
इक पल जीती हूँ दूजे पल मरती हूँ…
~~~~~~~~~~~~~~~
छा जाते मेघा काले विस्तृत नभ पर..
बूंदों संग बनकर आंसू तब झरती हूँ…
~~~~~~~~~~~~~~
सुनती हूं कागा को बुनती हूँ सपने…
ओढ़ विरह को सजती और सँवरती हूँ…
~~~~~~~~~~~~~~
अक्षर अक्षर नाम तुम्हारे करती हूँ..
जब मैं इस जीवन के पन्ने भरती हूँ..

अंकिता

Like Comment 0
Views 39

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share