.
Skip to content

विधा कविता

Sajoo Chaturvedi

Sajoo Chaturvedi

कविता

July 19, 2017

विरहणी
ऐ पवन ! जरा रुकजा मेरे संगसंग चल।
राहें भूली मैं प्रियतम राह दिखाते चल।
राह पथिक बनके जरा धीरे –धीर चल।
मै आई दूर देश से स्वपन्न सुनहरे तू चल।
वो देखो!मेरी सखी वहाँ तू देखते चल
आधी बतियाँ भूली तू मेघ संंग चल।

मेघघनछाये ऐ मेघ !जरा रुकजा अब।
पथिकबनके आगे भूली राहें दिखा अब।
कहाँ है प्रियका देश कहाँ जाना अब।
पवनने छलके भेजा मेरे संग अब।
आधी राहपे छोड़ चला अपने मार्ग अब।
हे विहरणी पीछे जा लौट आएतरस अब।
दोषी नसमझना प्रियने वीरगति पाई अब।
सज्जो चतुर्वेदी स्वरचित

Author
Recommended Posts
कविता --विरहणी
विरहणी ऐ पवन ! जरा रुकजा मेरे संगसंग चल। राहें भूली मैं प्रियतम राह दिखाते चल। राह पथिक बनके जरा धीरे --धीर चल। मै आई... Read more
पुकारे हिंदुस्तान
बढ़ बढ़ तू, चल चल तू देश की ये पुकार है,  निर्लज नहीं तू निर्बल नहीं तू, वीरों की संतान है! सिहं सी दहाड़ तुझमे... Read more
मरहम के नाम पर जख्म देकर कहाँ चल दिये
इश्क़ फरमाकर ज़नाब कहाँ चल दिए मरहम के नाम पर ज़ख्म देकर कहाँ चल दिए रोशन गलियों से निकाल कर अँधेरे में छोड़कर कहाँ चल... Read more
चल जरा चल जरा
चल जरा चल जरा रुक जरा देख जरा घाम होने को आयी सुखा कंठ जरा फुरसत मे आ दो घुंट लगा ठंड छाव मे बैठ... Read more