विमौहा छंद

छंद- विमोहा
मापनी- 212 212 (गालगा गालगा)

आप जो मिल गये
फूल हैं खिल गये
मन सुवासित हुआ
दीप से जल गये

*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

53 Views
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान * Awards: विभिन्न मंचों द्वारा सम्मानित
You may also like: