31.5k Members 51.9k Posts

विनोद सिल्ला के दोहे

रोटी

रोटी तू भी गजब है, कर दे काला चाम।
देश छोड़ के हैं गए, छूटे आँगन धाम।।

रोटी तूने कर दिए, घर से बेघर लोग।
रोटी ही ईलाज है, रोटी ही है रोग।।

रोटी तेरे ही लिए , बेलें पापड़ रोज।
मोहताज तेरे सभी , तेरी ही नित खोज।।

रोटी सबसे बड़ी है, इससे बड़ा न कोय।
रोटी बिन बेचैन सब, कैसे पोषण होय।।

बड़ा धर्म रोटी बना , रोटी की है चाह।
जीवन भागम-भाग है, रोटी की परवाह।।

सता रही रोटी सदा, कर के बारा बाट।
घर-बार तलक छुट गया, विसारे सभी ठाट।।

सिल्ला घर को छोड़ते, रोटी कारण निज गाँव।
टोहाना ने दी मुझे, आश्रय रूपी छांव।।

-विनोद सिल्ला©

2 Likes · 6 Views
विनोद सिल्ला
विनोद सिल्ला
Hansi
380 Posts · 3.4k Views
टोहाना, जिला फतेहाबाद हरियाणा
You may also like: