विनोद सिल्ला की कुंडलियां

लोकतन्त्र

मूल भावना खो गई, लोकतंत्र की आज|
निवेश पूंजीपति करें, वही चलाएं राज||
वही चलाएं राज, भाड़ में जाए जनता|
सत्ता बनी व्यापार, आमजन रहे उफनता||
कह सिल्ला कविराय, खिला ये भयानक फूल|
भावना हुई लोप, खो गया है भाव मूल||

-विनोद सिल्ला©

2 Likes · 4 Comments · 16 Views
टोहाना, जिला फतेहाबाद हरियाणा
You may also like: