विनोद सिल्ला की कुंडलियां

लोकतन्त्र

मूल भावना खो गई, लोकतंत्र की आज|
निवेश पूंजीपति करें, वही चलाएं राज||
वही चलाएं राज, भाड़ में जाए जनता|
सत्ता बनी व्यापार, आमजन रहे उफनता||
कह सिल्ला कविराय, खिला ये भयानक फूल|
भावना हुई लोप, खो गया है भाव मूल||

-विनोद सिल्ला©

Like 2 Comment 4
Views 8

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share