Skip to content

*विधाता छंद*मापनी-1222 1222 1222 1222

Dharmender Arora Musafir

Dharmender Arora Musafir

मुक्तक

June 7, 2016

ऐ सुमन मुरझा नहीँ तू मुस्कुराना सीख ले
मन चमन घबरा नहीँ तू खिलखिलाना सीख ले
प्रीत का पलड़ा रहा है हर घड़ी ही डोलता
वैर को अपने सदा ही तू भुलाना सीख ले
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

Author
Dharmender Arora Musafir
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान *
Recommended Posts
*सीख*
ऐ सुमन मुरझा नहीँ तू मुस्कुराना सीख ले मन चमन घबरा नहीँ तू खिलखिलाना सीख ले प्रीत का पलड़ा रहा है हर घड़ी ही डोलता... Read more
*अश्क*
अश्क आँखों में दबाना सीख ले दर्द में भी मुस्कुराना सीख ले प्रीत के ही गीत तू गाये सदा वैर को दिल से भुलाना सीख... Read more
शहीदों को नमन
वज्न-? 1222-1222-1222-1222 अर्कान- मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन बह्र - बह्रे हज़ज़ मुसम्मिन सालिम ग़ज़ल --------- शहादत आज जो दी है उन्हें हम याद रक्खेंगे। शहीदों... Read more
तू मेरी हो नहीँ सकती
किसी के खून से मै हाथ अपने धो नहीँ सकता मै अपनी राह मेँ काँटे कभी भी बो नहीँ सकता तू मुझसे प्यार करती है... Read more