#18 Trending Post

विज्ञान वरदान या अभिशाप बिन सैंस तोले कौन,

**सैंस(sense)से जो आई है,
सुविधा बहुत बढ़ाई है,
उसी साइंस(science)ने,
आखिर नींद हमारी उड़ाई है,
.
तन गई मिसाइल जगह जगह,
तू बता जरा,
हमारी सैंस कहाँ छुपाई है,
माना तूने मृत्यु दर घटाई है,
मरणासन की साँस चलाई है,
.
बदल दिये जिंदा दिल
आखिर जान बचाई है,
वरदान बने मानवता,
लौटा दो ऐसी सैंस,
.
अभिशाप न बने साइंस,
लौटा दो फिर से हमारी सैंस,
विज्ञान वरदान या है अभिशाप,
बिन सैंस नहीं तुलती अपने आप,
.
डॉ महेन्द्र सिंह खालेटिया,

Like Comment 0
Views 2.2k

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing