विज्ञान वरदान या अभिशाप बिन सैंस तोले कौन,

**सैंस(sense)से जो आई है,
सुविधा बहुत बढ़ाई है,
उसी साइंस(science)ने,
आखिर नींद हमारी उड़ाई है,
.
तन गई मिसाइल जगह जगह,
तू बता जरा,
हमारी सैंस कहाँ छुपाई है,
माना तूने मृत्यु दर घटाई है,
मरणासन की साँस चलाई है,
.
बदल दिये जिंदा दिल
आखिर जान बचाई है,
वरदान बने मानवता,
लौटा दो ऐसी सैंस,
.
अभिशाप न बने साइंस,
लौटा दो फिर से हमारी सैंस,
विज्ञान वरदान या है अभिशाप,
बिन सैंस नहीं तुलती अपने आप,
.
डॉ महेन्द्र सिंह खालेटिया,

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 3.1k

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share