.
Skip to content

विजय पर्व पर कीजिए, पापों का संहार

हिमकर श्याम

हिमकर श्याम

दोहे

October 10, 2016

जगत जननी जगदम्बिका, सर्वशक्ति स्वरूप।
दयामयी दुःखनाशिनी, नव दुर्गा नौ रूप।।

शक्ति पर्व नवरात्र में, शुभता का संचार।
भक्तिपूर्ण माहौल से, होते शुद्ध विचार ।।

जयकारे से गूंजता, देवी का दरबार।
माता के हर रूप को, नमन करे संसार।।

माँ अम्बे के ध्यान से, मिट जाते सब कष्ट।
रोग शोक संकट सभी, हो जाते हैं नष्ट।।

काम, क्रोध, मद, मोह, छल, अन्याय, अहंकार।
रावण की सब वृत्तियाँ, मन के विषम विकार।।

विजय पर्व पर कीजिए, पापों का संहार।
रावण भीतर है छुपा, करिए उस पर वार।।

[दुर्गा पूजा, विजयादशमी और दशहरे की हार्दिक शुभकामनाएँ]

©हिमकर श्याम

Author
हिमकर श्याम
स्वतंत्र पत्रकार, लेखक और ब्लॉगर http://himkarshyam.blogspot.in https://doosariaawaz.wordpress.com/
Recommended Posts
@@ शायरी @@
जिस्म की तलाश में. गुजार गया वो राते अपनी कभी कोठे पर और कभी मैखाने में.. फनाह होता देखा रूप सबका जब देखा एक मुर्दे... Read more
!!~ हे गंगा माँ  तुझ बिन सब प्यासे ~!!
अगर तू नहीं तो कैसे बुझेगी प्यास इस जग की तू है तो जिदगी है सब की तेरी महत्ता को जानते सब हैं फिर भी... Read more
उतर जाते है
उतर जाते हो जब कलम बन कागज पर उतर जाते हो प्रणय का एक पैगाम मुझे दे रहे होते हो । होठ कहते कहते अनायास... Read more
कलयुग की वास्तविकता
आज हो रहा देश भर मे राष्ट् वाद हंगामा है.... कही जुझते नेता तो कही मीडिया का डामा है............ असलीयत से तो सब परे हो... Read more