दोहे · Reading time: 1 minute

विचार प्रवाह

प्रेरित होकर जो बढ़े, नहीं रहता मोहताज़,
सफलता वा की दासी,सदा सजे सिरताज़
.
वार त्यौहार इतवार, कैसे मनोरोग उपचार,
एक दिन की व्यवस्था, किस विध तारे पार,
.
न ही ईंधन ना ही जल की कोई कमी
खूब सारी खुशियां मने गीली है जमी

होली भी जिंदा है उत्पाती आज भी प्रह्लाद,
जली नहीं बस कुप्रथा, ये कैसा हर्ष उन्माद,

छ: कन्या मार कर, सातवीं पुत्र संतान,
उसके इर्दगिर्द घूमे सामाजिक अभियान,

2 Likes · 1 Comment · 55 Views
Like
Author
503 Posts · 46.8k Views
निजी-व्यवसायी लेखन हास्य- व्यंग्य, शेर,गजल, कहानी,मुक्तक,लेख
You may also like:
Loading...