.
Skip to content

विचलित सा मन

रीतेश माधव

रीतेश माधव

कविता

April 30, 2017

विचलित सा मन है मेरा
कभी तरु छाया के अम्बर सा
कभी पतझड़ के ठूंठ सा
कभी प्रसन्न मैं,कभी दुखी क्रोधित सा
मैं भींगा-भांगा सा,डरा डरा सा

एक पल में उड़ जाता हूँ
कल्पना के नील गगन में
इधर उधर मंडराता हूँ नभ सा
चले चलता हूँ हवा के झोंको सा

रुकूँ तो महसूस करूं अस्थिर सा
कभी लगता हूँ शांत सरोवर के जल सा
चित तो है मेरी चंचल
फिर कभी कभी क्यों हो जाता हूँ मृत सा

खुद को खुद से समझाता हूँ
ना हो हताश रीतेश!इंसानों जैसा
बुनता रह कुछ भी तू, कर्मयोगी बनके
लगातार मकड़ी जैसा…

Author
Recommended Posts
आखिर कौन हूँ मैं ???
आखिर कौन हूँ मैं ??? कितने नकाब ओढ़ रखे है मैंने हर पल बदलता रहता हूँ--- मै हर क्षण बदलने वाला व्यक्तित्व हूँ मेरा रूप... Read more
क्योंकि,मैं जो हूँ स्वतः हूँ..!
क्योंकि,मैं जो हूँ स्वतः हूँ..! स्वयं रचता हूँ स्वयं पढता हूँ, आप पढ़ो तो ठीक है.. वरना खुद ही पाठक हूँ, क्योकि, मैं जो हूँ... Read more
मुक्तक
कभी कभी मैं खुद से पराया हो जाता हूँ! दर्द की दीवार का एक साया हो जाता हूँ! जब बेखुदी के दौर से घिर जाता... Read more
ऐसे मैं दिल बहलाता हूँ..
ऐसे मैं दिल बहलाता हूँ.. जीवन के उन्मादों को सहता जाता हूँ, कभी -२ तो डरता और सहमता भी हूँ, पर ऐसे मैं अपना दिल... Read more