.
Skip to content

वायुसंगिनी – एक त्याग एक अभिमान

जिज्ञासा सिंह

जिज्ञासा सिंह

कविता

September 9, 2017

कई बरस पहले
उड़ते देखा था, मशीनी परिंदों को,
उस नीले आसमां में
यूं कलाबाज़ियाँ करते, उलटते ,पलटते
वो तेज गड़गड़ाहट,
जो बस जाते कानों में
और ये परिंदे
चंद पलों में आँखों से ओझल हो जाते
सोचती थी, कौन होगा ? कैसा होगा ?
वो इंसान, उस लड़ाकू विमान में ।

क्या पता था कि,
किस्मत मुझे ले आएगी, उसी परिंदे के पास
इक डोर जुड़ जाएगी इस परिंदे से
वो आवाज़ जो बचपन से सुनी
बन जाएगी मेरे जीवन का अंश
वो आसमां का बासिन्दा
बन जाएगा मेरा सर्वांश।

भोर की पहली किरण के साथ
निकल पड़ते हैं आशियाने से
कर्म करने
स्क्वाड्रन के लिए,
हर सुबह हो जैसे
तैयारी रण की
निकलती है टोलियाँ इन परिंदों की
अपने अभियान पर
एयर डिफ़ेंस , स्ट्राइक मिशन ,
एयर कॉमबैट , इंटर्डिकशन
जाने क्या नाम ,जाने क्या काम !
इन्हीं अभियानों में सुबह से लेकर शाम
जिंदगी की चहल पहल से दूर
अपनी ही धुन में मस्त
आसमानी जिंदगी ।

चाँदनी रातों में अक्सर तन्हा होते हम
जज़्बातों में, ख्वाबों में,
तसवीरों में, ख्यालों में
अकेले गढ़ते सपने हम,
अधूरी ख्वाहिशें , अधूरे हम

पर !
उन पूनम रातों में
चाँदनी की लहरों पे सवार
ये परिंदे
गढ़ते युद्ध-कौशल।

लौट के घर आने पर
उनींदी आँखों से देख खिलता चेहरा इनका
रात की तपिश हो जाती गुम
इस अभिमान में कि
हम भी हैं साथ देश की रक्षा में
वायु-संगिनी बन कर ।

Author
जिज्ञासा सिंह
मेरी शिक्षा मऊ और बनारस में हुई है । मैंने हिंदी में पीचडी बीएचयु से की है । कवितायें लिखने का शौक़ है ।
Recommended Posts
मुक्तक
आज जो भी है वो कल न होगा! बेबसी का पल हरपल न होगा! रोशनी मिल जाएगी ख्यालों को, दर्द का कभी हलाहल न होगा!... Read more
इक महल हो, सपनो का
आ चल, इक महल बनाते हैं, सपनो का न ईंट , न सीमेंट, न बदरपुर, न सरिया बस सपनो में रहना , बाहर न जाना... Read more
गैरो मे कहॉ दम है ..अपने ही चोट दे जाते हैं
NIRA Rani कविता Nov 12, 2016
क्या हुआ कुछ वक्त के थपेड़ो ने कमजोर कर दिया टूटा तो वो पहले ही था हालातों ने ढेर कर दिया गुमा होता है कि... Read more
चुभ रहे जूते में वो मीलों चले जाते रातों में अक्सर वो वापस देर से आते करके मेहनत जो कमाते घर वो ले आते दर्द... Read more