.
Skip to content

वह सु रचना देश का सम्मान है | छिपी हो जिसमें सजग संवेदना|

बृजेश कुमार नायक

बृजेश कुमार नायक

मुक्तक

May 1, 2017

राष्ट्रहित गह दिव्यता,दे चेतना |
छाँट दे जो सहज में जन-वेदना |
वह सु रचना देश का सम्मान है |
छिपी हो जिसमें सजग संवेदना |

रचनाकार-बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए”एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

1 मई 2017
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” कृति का मुक्तक

Author
बृजेश कुमार नायक
एम ए हिंदी, साहित्यरतन, पालीटेक्निक डिप्लोमा जन्मतिथि-08-05-1961 प्रकाशित कृतियाँ-"जागा हिंदुस्तान चाहिए" एवं "क्रौंच सुऋषि आलोक" साक्षात्कार,युद्धरतआमआदमी सहित देश की कई प्रतिष्ठित पत्र- पत्रिकाओ मे रचनाएं प्रकाशित अनेक सम्मानों एवं उपाधियों से अलंकृत आकाशवाणी से काव्यपाठ प्रसारित, जन्म स्थान-कैथेरी,जालौन निवास-सुभाष नगर,... Read more
Recommended Posts
अमर काव्य हर हृदय को, दे सद्ज्ञान-प्रकाश
लेखन वह, जो राष्ट्रहित- सजग चेतनाकाश देकर, बने सु प्रीति सह मातृभूमि-उल्लास| सहजरूप गह, दिव्यता का छूू ले उत्कर्ष| अमर काव्य हर हृदय को, दे... Read more
आ सजाऊँ भाल पर चंदन तरुण
चेतनामय लोकहित जागो निपुण धरणि पर बैकुंठ का हो अवतरण राष्ट्र पुलकित कहेगा सम्मान से आ सजाऊँ भाल पर चंदन तरुण ़़़़़़़़़़़़़:़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़ बृजेश कुमार नायक... Read more
संवेदना घर
सत्य, नायक वही जो नव चेतना भर | राष्ट्र को उत्थान दे, जन-वेदना हर| छिपा है आनंद, निज की आतमा में| मन स्वयं ही जाग... Read more
तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय|
तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय | शरम से आँखें झुकाता है प्रलय | जाग, सद्नायक बने औ बना दे| राष्ट्र-तम पर अरुण-आभा... Read more