Jun 10, 2021 · कविता
Reading time: 1 minute

वह गाती एक गीत

वह गाती एक गीत,
अपने होने का, बहने का,
तीव्र गति से, तूफान से,
बयांँ करती अपने दुख-सुख,
कभी ऊंँची इमारतों पर,
कभी घने वन में,
सनसनाती, मुस्कुराती, रेंगती,
गुजरती हुई गीत गाती ।

ठहरती,टकराती,पलटती,
गिरती-पड़ती फिर उठती,
बाधाओं को तोड़ती, बढ़ती,
शांत रहती,कुछ सुनाती,
कभी ऊंँची पहाड़ियों पर चढ़ती,
सागर के तल पर टहलती,
उमंग के गीत सुनाती,
बहती जाती,गीत गाती जाती।

#रचनाकार- बुद्ध प्रकाश,मौदहा (हमीरपुर)।

3 Likes · 13 Views
Copy link to share
#27 Trending Author
Buddha Prakash
54 Posts · 3.9k Views
Follow 19 Followers
B.tech in Computer Science & Engineering View full profile
You may also like: