वही पल - पल सताता है जिसे जितना भुलाता हूँ

बेवफा थी मगर उसके घर तक गया ।
मानकर प्रेम पावन शिखर तक गया ।
वो न समझी तो’ इसमे खता क्या मेरी,
आस दिल में जगा साल भर तक गया ।(हास्य )
– – – – – – – – – – – – – – – –
******************
बनाकर ख्वाब को कैदी नयन भरकर सुलाता हूँ ।
मुझे खुद ही नहीं मालूम मैं किसको बुलाता हूँ ।
मगर बेचैन सी होकर किसी को ढूँढती नजरें,
वही पल – पल सताता है जिसे जितना भुलाता हूँ ।
– – – – – @विवेक आस्तिक

Like Comment 0
Views 32

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share