Skip to content

*वहां भी याद रखना*

Sonu Jain

Sonu Jain

कविता

November 13, 2017

*वहां भी याद रखना*

सात समंदर पार जाते ही भूल न जाना,,
अपने प्यारे हिंदुस्तान को याद रखना,,

यहाँ की सोंधी माटी की खुशबू को बरकरार रखना,,
अपने वतन का मान सम्मान बनाये रखना,,

विदेश जाना,कमाना तेरी मजबूरी है,,
लौट आने का तुम सदा ही याद रखना,,

अपना दीन ईमान भूल न जाना,,
परदेश में भी दिल मे घर हिदुस्तान याद रखना,,

सोनु की कविता सिर्फ तुम्हारे लिये है,,
बस यूं ही तुम अपने दोस्तों को याद रखना,,

*सोनु जैन मन्दसौर,,,*

Author
Sonu Jain
Govt, mp में सहायक अध्यापिका के पद पर है,, कविता,लेखन,पाठ, और रचनात्मक कार्यो में रुचि,,, स्थानीय स्तर पर काव्य व लेखन, साथ ही गायन में रुचि,,,
Recommended Posts
पिया याद रखना
जाते हो जाओ, पर याद रखना, राह की मेरे पहचान रखना । आये जो सावन पिया मन-भावन, बरसेंगे बदरा तरसेंगे नयना, भीगेगा तन-मन,पिया य़ाद रखना।... Read more
मेरी बात ये उम्र भर याद करना
मेरी बात ये उम्र भर याद रखना................. मेरी बात ये ,उम्र भर याद रखना रहो तुम कहीं भी घर याद रखना ************************* ये आयेंगे जायेंगे... Read more
ग़ज़ल।वतन के सिपाही वतन याद रखना ।
,,,,,,,,,,,,,,ग़ज़ल/,,,,,,,,,,,, ख़ुदा के लिए ये वचन याद रखना । वतन के सिपाही वतन याद रखना । तिरंगा हमारा बड़ा ही निराला । सदा गर्व से... Read more
ग़ज़ल।वतन के सिपाही वतन याद रखना ।
,,,,,,,,,,,,,,ग़ज़ल/,,,,,,,,,,,, ख़ुदा के लिए ये वचन याद रखना । वतन के सिपाही वतन याद रखना । तिरंगा हमारा बड़ा ही निराला । सदा गर्व से... Read more