वसंत पञ्चमी विशेष

उषाकाल में दिनकर देख,पर्ण बीच कली मुस्काई
मंद मंद मकरंद बयार, दौड़ी पवन संग चलि आयी ।

पक्षियों का कलरव सुन, मन हृदय अह्लादित होता
वन बाग उपवन वाटिका मे, संगीत मधुर स्फुटित होता ।

खेतों मे सरसो के फूल , देख हृदय हर्षित होता
गेहूं की हरियाली छायी,मन धरा को अर्पित होता ।

पुराने पर्ण हैं छूट रहे, वृक्षों पर नव पल्लव होगा
स्मृतियां भी रोक न पायें, पर्व यही नव उत्सव होगा ।

जब बसंत की ऋतु है आती,धरा स्वयं मुस्काती है
सरस्वती पूजन करने को, प्रकृति स्वयं आ जाती है ।

……….पंकज पाण्डेय…….

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 2

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share