.
Skip to content

*वसंत गीत* ”आ नूतन कर श्रृंगार उषा”

अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'

अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'

गीत

February 1, 2017

*गीत*
कर हर्षित अब संसार उषा।
आ नूतन कर श्रृंगार उषा।

नभ मंडप में विस्तार वदन।
तम का कर सहचर साथ दमन।
मृदु सुषमा से महका मंजर।
आ अंबर से वसुधा के घर।
कर अभिनंदन स्वीकार उषा।
आ नूतन कर श्रंगार उषा।।१।।

वट मंजरि पल्लव फूलों में।
सर सरिता सागर कूलों में।
गुल पर तुहिनों के मोती धर।
वापी गिरि गव्हर स्वर्णिम कर।
दे कुदरत को निज प्यार उषा।
आ नूतन कर श्रंगार उषा।।२।।

वधु- वसन वसंती वदन पहन।
कर तृप्त नयन और अंतर्मन।।
सिर तरुओं सरसों का सहला।
संताप हरण कर छिटक कला।
खग कूजों की झंकार उषा।
आ नूतन कर श्रंगार उषा।।३।।

मदमत्त किये तरुणाई को।
आलिंगन दे अमराई को।
मधुमासी सुर्ख कपोलों को।
अधरों के छोड उसूलों को।
ले चूम मृदुल रुख्सार उषा।
आ नूतन कर श्रंगार उषा।।४।।

वन वीथि विहंगम कुंजों में।
लावल्य लसित मुख पुंजों में।
पधरा पग पावन डगर डगर।
आ शाख शाख आ शजर शजर।
कर स्पंदन संचार उषा।
आ नूतन कर श्रंगार उषा।।५।।

अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’

Author
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
कार्य- अध्ययन (स्नातकोत्तर) पता- रामपुर कलाँ,सबलगढ, जिला- मुरैना(म.प्र.)/ पिनकोड-476229 मो-08827040078
Recommended Posts
खयाल
सुन, तेरी उल्फतों पर मलाल आ गया, बनी आंखें झरना,हाथ रुमाल आ गया। जब यूं ही बैठे बैठे खयाल आ गया, तब समंदर में दिल... Read more
ऋतु बसन्त आ ही गया है
वसुधा का श्रृंगार किया है नूतन उमंग नव आस लिए ऋतु बसन्त आ ही गया है जीवन में तो उल्लास लिए। सूरज की तंद्रा अब... Read more
ग़ज़ल: मज़ा आ गया ।
ग़ज़ल: मज़ा आ गया // दिनेश एल० “जैहिंद” ग़म जहाँ से छिपाया मज़ा आ गया, गीत खुशी_का गाया मज़ा आ गया । खुद रोया_और लोगों... Read more
राग अधरों पर सजाना आ गया
राग अधरों पर सजाना आ गया लो मुझे भी गीत गाना आ गया छटपटाहट आज मन की भूल कर दर्द में भी मुस्कुराना आ गया... Read more