.
Skip to content

वर्ण व्यंजन मे तुमको लिखना ,, क्या कोई बेईमानी होगी

सदानन्द कुमार

सदानन्द कुमार

कविता

May 19, 2017

वर्ण व्यंजन मे तुमको लिखना ~~~~
क्या कोई बेईमानी होगी ~~~~
मेरा तुमको अपना कहना ~~~~
हमनफ्ज ,,,,
ये मेरी नाफरमानी होगी ~~~~

मेरा पतला प्रेम निवेदन ~~~~
पर,,,,
प्रेम प्रयतन कर के मै हारा ~~~~
और ये परितयक्त भावो का स्थायी वेदन ~~~~

किस वेद मे हंसिनी ,, मै अपनी बूटी ढूंढू ~~~~
डूब रहा हूँ सागर जल मे ~~~~
पर ,,,,
जीने को क्यो मै खूंटी ढूंढू ~~~~

जाना तुमहारा कुछ यू है कूहूकिनी ~~~~
जैसे ,,,,
जीवन अनुराग का बिछड़न ~~~~
दरवाजे के आम महुआ बतियाए ~~~~
बसंत को है विरह की जकड़न ~~~~

फिर वही उन आखड़ो मे कहता हूँ ~~~~
प्रेम की पाती तुम तो मेरी थी ~~~~
क्या पराए घर की रानी होगी ~~~~
वर्ण व्यंजन मे तुमको लिखना ~~~~
क्या अब कोई बेईमानी होगी ~~~~
स्मृति वेग मे मेरी बहती हो तो ~~~~
तुम भी मम मम पानी होगी ~~~~~

सदानन्द
19 मई 2017

Author
सदानन्द कुमार
मै सदानन्द, समस्तीपुर बिहार से रूचिवश, संग्रहणीय साहित्य का दास हूँ यदि हल्का लगूं तो अनुज समझ कर क्षमा करे Whts app 9534730777
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
निकलता है
सुन, हृदय हुआ जाता है मृत्यु शैय्या, नित स्वप्न का दम निकलता है। रोज़ ही मरते जाते हैं मेरे एहसास, अश्क बनकर के ग़म निकलता... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more