.
Skip to content

*वर्ण का महाजाल और संतुष्टि*

Dr. Mahender Singh

Dr. Mahender Singh

कविता

September 13, 2017

**ये सपने नहीं हकीकत है,
चुकती जिसमें कीमत है,
ख्वाब नहीं ..
..जो टूट जाए,
आंखें ..खुलते ही,

चिपक जाते है जो जन्म लेते ही,
ऐसी-वैसी नहीं व्यवस्था,
जो बंटी हो वर्गो में,
जकड़ी हुई जो वर्ण-व्यवस्था से,
है बड़ी विकराल समस्या,

फंसा है जाल में…
जाल में ही मर जाएगा,
पर चक्रव्यूह न तोड़ पाएगा..।

आखिर
शिक्षित बनो !
संगठित रहो !
संघर्ष करो !
सूत्र ही सम्मान बचाऐगा,

तब जाकर कोई ,
जीवन को धन्य कह पाएगा !
जीव जीवन को गर..धन्य न कहे ,
तब तक कौन कहे ..
डॉ महेन्द्र सिंह खालेटिया,
कोई मिथ्या से मुक्त हो पाया है,

Author
Dr. Mahender Singh
(आयुर्वेदाचार्य) शौक कविता, व्यंग्य, शेर, हास्य, आलोचक लेख लिखना,अध्यात्म की ओर !
Recommended Posts
अंदाज़ शायराना !
जैसा सम्मान हम खुद को देते है ! ठीक वैसा ही बाहर प्रतीत होता है ! जस् हमें खुद से प्रेम है ! तस् बाहर... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
निकलता है
सुन, हृदय हुआ जाता है मृत्यु शैय्या, नित स्वप्न का दम निकलता है। रोज़ ही मरते जाते हैं मेरे एहसास, अश्क बनकर के ग़म निकलता... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more