.
Skip to content

वर्णिक छंद में तेवरी

कवि रमेशराज

कवि रमेशराज

तेवरी

May 3, 2017

गण- [राजभा राजभा राजभा राजभा ]
छंद से मिलती जुलती बहर –फ़ायलुन फ़ायलुन फ़ायलुन फ़ायलुन
……………………………………………………………….
आपने नूर की क्या नदी लूट ली
गीत के नैन की रोशनी लूट ली |
क्या यही आपकी है समालोचना
शब्द के अर्थ की ज़िन्दगी लूट ली |
ऐ कहारों कहो क्या हुआ हादिसा
आपने तो नहीं पालकी लूट ली |
पांडवो आज भी आपकी भूल से
कौरवों ने सुनो द्रौपदी लूट ली |
+रमेशराज

Author
कवि रमेशराज
परिचय : कवि रमेशराज —————————————————— पूरा नाम-रमेशचन्द्र गुप्त, पिता- लोककवि रामचरन गुप्त, जन्म-15 मार्च 1954, गांव-एसी, जनपद-अलीगढ़,शिक्षा-एम.ए. हिन्दी, एम.ए. भूगोल सम्पादन-तेवरीपक्ष [त्रैमा. ]सम्पादित कृतियां1.अभी जुबां कटी नहीं [ तेवरी-संग्रह ] 2. कबीर जि़न्दा है [ तेवरी-संग्रह]3. इतिहास घायल है [... Read more
Recommended Posts
कदमों में मां के तले सारी खुदाई देख ली
प्यार की शम्मा यहां पर जो जलाई देख ली खूब की तुमने हमारी जो भलाई देख ली अब तो है पीना हमें बस लस्सी ही... Read more
मुक्तक
गांठ दिल की तुम कहो तो खोल दूं देख ली दुनिया बहुत क्या मोल दूं बेमतलब तो प्यार भी होता नहीं सीख ली है ये... Read more
मेरे श्याम
हाथ माखन होंठ मुरली . . से सजाया आपने .. नंद नंदन श्याम जग को . . है रिझाया आपने॥ ऐ मदन गोपाल सुनिए... मैं... Read more
लोग वर्षों से एक ही सवाल पूछते आ रहे है .... कि आपकी बिरादरी क्या है ? आपका धर्म क्या है ? मजहब क्या है... Read more