वर्णमाला (कोरोना)

7

क से कविता में सुनो कोरोना का राज
ख से खत्म करना हमें कोरोना है आज
ग से गमन न कीजिये रखना इसका ध्यान
घ से घर पर बैठिये कहना लीजे मान
च से चौकस भी बहुत है अपनी सरकार
छ से छाये इससे टीवी मोबाइल अखबार
ज से जरा समझना कितनी मुश्किल में है जान
झ से झांको बालकनी से रखना बन्द मकान
ट के टकराना नहीं रखना बस अलगाव
ठ से ठिठक गया जग कैसा आया है ठहराव
ड से डरना भी नहीं बात रहे ये याद
ढ़ से ढकने से इसे होंगे हम बर्बाद
त से ताकतवर नहीं वैसे ये कमजोर
थ से थामना हमें इसका बढ़ता जोर
द से दवा से नहीं इसका चलता काम
ध से धर्म हमारा करनी इसकी रोकथाम
न से निकट नहीं रहने का नियम जो लोगे मान
प से पाओगे बचा कोरोना से जान
फ से फल मीठा पाने का सुन लो ये भी राज
ब से बरतो सावधानियां भी कुछ मिलकर आज
भ से भूल न जाना धोना अपने अपने हाथ
म से मलना उनको होगा भी साबुन के साथ
य से यारों से अभी रहना होगा दूर
र से रिश्तों में हुये थोड़ा हम मजबूर
ल से लानी नई क्रांति है लोगों में आज
व से वजह सही ढूंढकर करना हमें इलाज
स से साफ सफाई पर भी देना अपनी ध्यान
ष से षडयंत्रों से रखना अपनी दूरी तान
श से मांसाहार छोड़ बस खाओ शाकाहार
ह से हाथ मिलाना छोड़ो अपनाओ नमस्कार
क्ष से क्षत्रियों की तरह करो सभी व्यवहार
त्र से त्रासदी का नहीं डर देखो उपचार
और बात सबसे बड़ी रखना जिसका ध्यान
ज्ञ से ज्ञान बढाओ मत दो अफवाहों पर कान

21-03-2020
डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद

5 Likes · 4 Comments · 179 Views
डॉ अर्चना गुप्ता (Founder,Sahityapedia) "मेरी प्यारी लेखनी, मेरे दिल का साज इसकी मेरे बाद भी,...
You may also like: