.
Skip to content

*वफा का चलन*

Dharmender Arora Musafir

Dharmender Arora Musafir

गज़ल/गीतिका

October 6, 2017

चरागे-मुहब्बत बुझाना नहीं।
हमें याद रखना भुलाना नहीं!!
*************************
अगर या मगर से किनारा करो!
बहाने कभी तुम बनाना नहीं!!
*************************
भले घूम लेना ज़माने में’ तुम!
कहीं माँ से’ बढ़कर खज़ाना नहीं!!
*************************
ग़मे ज़िंदगी है कड़ा इम्तिहां!
चले आंधियाँ डगमगाना नहीं!!
*************************
वफा का चलन जो निभाए सदा!
“मुसाफ़िर” उसे आज़माना नहीं!!
*************************
धर्मेन्द्र अरोड़ा “मुसाफ़िर”
(9034376051)

Author
Dharmender Arora Musafir
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान *
Recommended Posts
** तुम वफ़ा क्या जानो **
6.5.17 ***** रात्रि 11.11 तुम वफ़ा क्या जानो तुम जफ़ा क्या जानो क्यों कोई तुमसे ख़फा हो तुम क्या जानो ख़ार है या प्यार है... Read more
मोहन तुम थे एक मुसाफिर
Rita Singh गीत Jul 31, 2017
मोहन तुम थे एक मुसाफिर हमको कभी नहीं ज्ञान हुआ , इक दिन तुमको जाना होगा इसका तनिक नहीं भान हुआ । नँदबाबा ने गोद... Read more
तेरी चाहत तेरी वफ़ा ले जाय
तेरी चाहत तेरी वफा ले जाय जाने किस सिम्त ये नशा ले जाय इस कदर बा हुनर नही है तू अपना गम मुझसे जो छुपा... Read more
[[ वफ़ा दो वफ़ा लो मुहब्बत मिलेगी ]]
⚛ वफ़ा दो वफ़ा लो मुहब्बत मिलेगी ,! बता दूरियाँ जान कब तक सहेगी ,!! १ ■???????????■ जला दो चिराग़े वफ़ा के जरा तुम ,!... Read more