वतन

छंद –विजात (भारत माता की जय पर)
मापनी–1222 1222
————————————————————
नई आशा दिशा जागी,
बुरी आदत सभी त्यागी।
नया होगा चमन मेरा,
सजेगा यह वतन मेरा। ______1

दिखाते हैं जो’ गद्दारी,
नही रखते वफादारी।
वतन प्यारा नही होता,
न नारा जय सहन होता।_______2

दिया है देश ने सब कुछ,
नही है शेष अब रह कुछ।
नियम कानून समझे तुछ,
न रखते सोच जादा कुछ।_______3

बगावत के सुर दिखाकर,
नही भारत की’ जय कहकर।
सभाओं में हैं’ चिल्लाते,
जहर का घोल फैलाते।______4
÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷
नीरज पुरोहित घोलतीर (रूद्रप्रयाग)उत्तराखंड

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 11

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share