Skip to content

वजूद

Madhuri Swarnkar

Madhuri Swarnkar

कविता

November 19, 2016

—वजूद—

पेड़ पर अटकी पतंग ,
कितनी कोशिश
करती है ,छूटने की रिहा होने की , पर हर
बार स्वयं के भरसक प्रयास के बावजूद हार
जाती है…….और खो देती है स्वयं का वजूद

कभी हवा के तेज़ झोंके तो कभी बारिश की बूंदे उसके वजूद को खत्म कर देते है

डोर वही ………पतंग बदल जाती है

बदल जाते है हर और फ़िज़ा के रंग….
फिर उसी डोर के साथ नई पतंग मदमस्त
स्वछन्द आकाश में विचरण करती….

इठलाती बलखाती….
मदमस्त….स्वयं के वजूद से अंजान
हवा के झोंके के साथ लहराती

फिर वही अंजाम…….नई पतंग
डोर वही….

वजूद रहा तो सिर्फ डोर का …
पतंग आती रही ………….पतंग जाती रही ।।

माधुरी स्वर्णकार__

Author
Recommended Posts
कभी  न डोर छोड़िये
पतंग से उड़ो मगर, कभी न डोर छोड़िये बंधी ये डोर प्यार की, इसे कभी न तोड़िये लड़ाइये न पेंच अब, लगाइये गले हमें है’... Read more
मुक्तक
जिन्दगी जब भी किसी से प्यार करती है! हर वक्त उसी का इंतजार करती है! शाम गुजर जाती है उसी की यादों में, रात तन्हाई... Read more
बदल  लेती  है रहगुजर  कोई  गिला नहीं करती
बदल लेती है रहगुजर कोई गिला नहीं करती ठोकरें जहान की खाके हवाएँ गिरा नहीं करती वज़ूद है मेरा शायद इस बात की गवाही को... Read more
प्रतिबंधित बेटियाँ
मेरी कलम से... कितनी प्रतिबंधित होती है बेटियाँ जन्म से ही परम्पराओं का आवरण पहना कर कितनी आसानी से छली जाती है पूरी उम्र अपरिमेय... Read more