23.7k Members 49.9k Posts

वक्त

एक इन्सान वक्त से क्या कहता है,गौर फरमाईए मेरे प्यारे मित्रों।इस कविता पर,,,,,,, ऐ वक्त जरा अदब से पेश आ,ऐ वक्त जरा अदब से पेश आ। क्योंकी वक्त नही लगता वक्त बदलने में।। अपना भी वक्त आयेगा,अपना भी वक्त आयेगा। इस दुनियाॅ के फसाने में,बस थोड़ा सा वक्त है,वक्त बदलने में।।इरफान खान (बी एड)द्वारा स्वरचित कविता।

Like 1 Comment 1
Views 30

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
इरफान खान
इरफान खान
4 Posts · 260 Views
एक दूसरे के भावनाओ को इजज्त देना सीखें।इरफान खान(बी एड)