.
Skip to content

वक्त

Sonika Mishra

Sonika Mishra

शेर

October 12, 2016

वक्त जो गुज़र गया
उसको तलाशते रहे
किसी की याद में
वो आज भी आंसू बहाते रहे
दो पल के लिए भी
कोई रुक न सका
वो उम्र भर उनको
दिल में सजाते रहे
छोड़कर दामन ख़ुशी का
चल रहे है वो
आज भी उनके इंतज़ार में
जी रहे है वो

– सोनिका मिश्रा

Author
Sonika Mishra
मेरे शब्द एक प्रहार हैं, न कोई जीत न कोई हार हैं | डूब गए तो सागर है, तैर लिया तो इतिहास हैं ||
Recommended Posts
तनहा हुए हैं आज वो
तनहा हुए हैं आज वो महफ़िल, की जिन्हे आदत थी, शौके मज़बूरी बन गया वो वक़्त, जिससे उन्हें बगावत थी, आज फैसला होगा वहीं उनके... Read more
वक्त
वक्त वक्त बर्बाद करना ही, जिंदगी बर्बाद करना है लिया है जन्म आज तो, फिर एक रोज़ मरना है मेहनती​और कर्मठ का सखा यह वक्त... Read more
!!! वो ही वकत !!!
जिस पल में तुम से मिला था, मेरा मन वो वक्त फिर लौट के ना आया जिस पल धडका था मेरा दिल वो फिर लौट... Read more
***वकत***
कभी वक्त मिला तो मिल आते थे कुछ कह आते थे कुछ सुना आते थे वो वक्त था..... आज भी वक्त है कुछ कहना चाहें... Read more