.
Skip to content

वक्त की पहचान

पं.संजीव शुक्ल

पं.संजीव शुक्ल

कविता

July 19, 2017

छोड़ कर वक्त पीछे
तूं देख मैं बढा हूँ,
उलट थीं हवायें
विकट रास्ते थे,
राहों में मेरे
कांटे बीछे थे,
इन विषम परिस्थिति से
कब मैं डरा हूँ
छोड़ कर वक्त पीछे
तूं देख मैं बढा हूँ।
जिन्हें माना अपना
वो दुश्मन बने थे
रोकदे राह मेरे
हर मोड़ पर खड़े थे,
खण्ड – खण्ड हो गया
पर कहा मैं रुका हूँ,
छोड़ कर वक्त पीछे
तूं देख मैं बढा हूँ।
न आंखों मे नीन्द
न चैन एक पल था
खुले आंखों में मेरे
स्वप्न ही जवां था
चला था, गीरा था
न फिर भी झूका हूँ,
छोड़ कर वक्त पीछे
तूं देख मैं बढा़ हूँ।
समय कहा रूकता है
मैं जानता था,
वक्त की यहमीयत को
पहचानता था,
चूर – चूर हो गया
किन्तु चलता रहा हूँ,
छोड़ कर वक्त पीछे
तूं देख मैं बढ़ा हूँ।
©®पं.संजीव शुक्ल “सचिन”
9560335952

Author
पं.संजीव शुक्ल
मैं पश्चिमी चम्पारण से हूँ, ग्राम+पो.-मुसहरवा (बिहार) वर्तमान समय में दिल्ली में एक प्राईवेट सेक्टर में कार्यरत हूँ। लेखन कला मेरा जूनून है।
Recommended Posts
वक़्त और मैं
वक़्त और मैं १. अधूरी ख्वाहिशें पूरा करने की बारी है वक़्त से मेरी इतनी सी जंग जारी है २. वक़्त से एक जंग लड़... Read more
"अब तो मैं.... डरता हूँ" (शेर) 1. मैं कहाँ अदावत से डरता हूँ मैं तो बस ज़िलालत से डरता हूँ इतना लूटा गया हैं मुझे... Read more
गुजरते वकत में शामिल हो जाऊंगा
गुजरते वकत में शामिल हो जाऊँगा मैं, एक तस्वीर बन कर रह जाऊँगा मैं, खुशिया जितनी भी हैं मेरे दिल के अंदर आप सभी को... Read more
~~मेरी दुआ तेरे लिए~~
मैं नहीं चाहता कि तू मुझ को दुआ दे मैं नहीं चाहता कि तू मुझे वफ़ा दे मैं नहीं चाहता की रब से, मेरे लिया... Read more