.
Skip to content

वंदे मातरम

Sajoo Chaturvedi

Sajoo Chaturvedi

कविता

July 17, 2017

माँ युद्धभूभि में घूमती।
राक्षसों सें कभी नहीं डरती ।
गरजतेहुये सिंहों से कभी डरो नहीं,
वीरों शक्ति से सामना करो।।.

कभी कायरता अपनाओं नही।
बढ़ो दुश्मनो का सामना करो।
देशको तुझपे नाजहैै सदा.,
यही वीरों की पहचानसदा।।

वंदेमारयका नारा लगाते चलो।
माँभारती का गुणगानगाते चलो।।
कदमों से कदम सदा बढ़ाते चलो।
शेरनी जैसे सदा हुंकारते चलो।।

Author
Recommended Posts
नहीं कमजोर नारी
नहीं कमजोर नारी वो दिल से सोचती है इन्हीं साँसों से अपनी ये जीवन रोपती है नहाती दर्द में है किसी से पर न कहती... Read more
इश्क
एक गजल और- कब लगा है बेवफा का दाग ये दिलदार पर, संगदिल है ये जमाना दाग देता प्यार पर॥ डूबती नौका नहीं कोशे समंदर... Read more
*बेटी*
बेटी नहीं है कोई बोझ फिर क्यूँ कोख में मरे ये रोज? ईश्वर का वरदान है बेटी सकल गुणों की खान है बेटी मात-पिता की... Read more
इश्क का किस्सा
इश्क का एक किस्सा सुनाएं तुम्हें, अश्क से रूबरू फिर कराएं तुम्हें, बात है दिल्लगी की सुनो गौर से, हार कर जीतना हम सिखाएं तुम्हें,... Read more