Skip to content

लो चला मैं… ओमपुरी जी को श्रद्धांजलि

जयति जैन

जयति जैन "नूतन"

कविता

January 6, 2017

लो चला मैं…
तुम सबसे दूर
कुछ के लिये बुरा तो
कुछ के लिये अच्छा था…
लो चला मैं…
आंखें नम हो जाये तो
खुद को सम्भाल लेना…
लो चला मै
गड़डो से भरा चेहरा तो
साथ काम करने से मना कर दिया था
लो चला मैं…
पहले लोगों ने ठुकराया तो
गिरा नहीं ठहर कर चला था…
लो चला मैं…
तुम सब से दूर ??
किसी और दुनिया में
इक नयी दुनिया में…
अपनो से दूर
लो चला मैं…

लेखिका- जयति जैन, रानीपुर झांसी…

Share this:
Author
जयति जैन
लोगों की भीड़ से निकली आम लड़की ! पूरा नाम- DRx जयति जैन उपनाम- शानू, नूतन लौकिक शिक्षा- डी.फार्मा, बी.फार्मा, एम. फार्मा लेखन- 2010 से अब तक वर्तमान लेखन- सामाज़िक लेखन, दैनिक व साप्ताहिक अख्बार, चहकते पंछी ब्लोग, साहित्यपीडिया, शब्दनगरी... Read more
Recommended for you