Sep 1, 2016 · तेवरी
Reading time: 1 minute

लोक-शैली ‘रसिया’ पर आधारित रमेशराज की तेवरी

लोक-शैली ‘रसिया’ पर आधारित रमेशराज की तेवरी
………………………………………………………………….
मीठे सोच हमारे, स्वारथवश कड़वाहट धारे
भइया का दुश्मन अब भइया घर के भीतर है।

इक कमरे में मातम, भूख गरीबी अश्रुपात गम
दूजे कमरे ताता-थइया घर के भीतर है।

नित दहेज के ताने, सास-ननद के राग पुराने
नयी ब्याहता जैसे गइया घर के भीतर है।

नम्र विचार न भाये, सब में अहंकार गुर्राये
हर कोई बन गया ततइया घर के भीतर है।

नये दौर के बच्चे, तुनक मिजाजी-अति नकनच्चे
छटंकी भी अब जैसे ढइया घर के भीतर है।
+रमेशराज

3 Comments · 30 Views
Copy link to share
कवि रमेशराज
273 Posts · 18.1k Views
Follow 5 Followers
परिचय : कवि रमेशराज —————————————————— पूरा नाम-रमेशचन्द्र गुप्त, पिता- लोककवि रामचरन गुप्त, जन्म-15 मार्च 1954,... View full profile
You may also like: