.
Skip to content

लोकशैली में तेवरी

कवि रमेशराज

कवि रमेशराज

तेवरी

May 3, 2017

नारे थे यहाँ स्वदेशी के
हम बने विदेशी माल , सुन लाल !
अपने हैं ढोल नगाड़े पर
ये मढ़े चीन की खाल , सुन लाल !
हम गदगद अपने बागों में
अब झूले चीनी डाल , सुन लाल |
हम वो संगीत शास्त्री हैं
स्वर में अमरीकी ताल , सुन लाल !
+रमेशराज

Author
कवि रमेशराज
परिचय : कवि रमेशराज —————————————————— पूरा नाम-रमेशचन्द्र गुप्त, पिता- लोककवि रामचरन गुप्त, जन्म-15 मार्च 1954, गांव-एसी, जनपद-अलीगढ़,शिक्षा-एम.ए. हिन्दी, एम.ए. भूगोल सम्पादन-तेवरीपक्ष [त्रैमा. ]सम्पादित कृतियां1.अभी जुबां कटी नहीं [ तेवरी-संग्रह ] 2. कबीर जि़न्दा है [ तेवरी-संग्रह]3. इतिहास घायल है [... Read more
Recommended Posts
गज़ल
रदीफ़- हम हैं। इन्द्रधनुषी रंग तुम हो सनम,माना खुशरंगों का। सुन हम भी कम तो नहीं,सलौने ख्वाब से हम हैं। माना कि तुम समंदर हो... Read more
मेरी सिंगवाहिनी
दर्शन दे दो मुझको आज, माई जगदम्बा भवानी । कर दो पूरण मेरे काज , माई जगदम्बा भवानी ।। तेरे दर्शन को आए माता ,... Read more
गीत- आजादी का जश्न मनायें -लाल बिहारी लाल
गीत- आजादी का जश्न मनायें लाल बिहारी लाल आजादी का जस्न मनायें, आओं मिलकर हम और आप इसे अच्छून बनायें आज, आओं मिलकर हम और... Read more
ऐ हिमालय सुन मां का दर्द
एक सजग प्रहरी की शहादत पर एक दुखिया माँ का प्रश्न---- ऐ हिमालय सुन मां का दर्द तेरी ऊंची चोटी सा था वह सुदृढ़ विशाल।... Read more