.
Skip to content

लोकतंत्र

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

कविता

April 10, 2017

” लोकतंत्र ”
————–

लोगों का
लोगों के लिए
लोगों के द्वारा |
यही तो है…….
लोकतंत्र ||
वैसे तो
वैदिक युग में ही
पनप चुके थे बीज
लोकतंत्र के |
परन्तु……..
वास्तविक आधार बना
हमारा संविधान !
जिसमें आगाज हुआ
लोकतंत्र का ||
हाँ ,सच है ये
हम भारत के लोग !
यही वो वाक्य है–
जो उद्भूत करता है
लोकतंत्र को ||
बहुत से उद्देश्य हैं
इस लोकतंत्र के
जैसे —
प्रभुत्वसम्पन्न !
समाजवादी !
पंथनिरपेक्ष !
लोकतांत्रिक गणराज्य
बनाने के साथ-साथ
सामाजिक-आर्थिक-राजनैतिक न्याय !
स्वतंत्रता !
समानता !
बंधुता !
व्यक्ति की गरिमा
और राष्ट्र की……
एकता और अखंडता !
ये सभी तो हैं !
लोकतंत्र के सात्विक उद्देश्य ||
हाँ !
उपलब्धियाँ भी हैं !
पुरातन भी
और नूतन भी !
आचार भी हैं
नवाचार भी |
संरक्षण भी है
परीक्षण भी |
मूल अधिकारों का
रक्षण भी है !
तो निदेशक तत्वों का
अनुपालन भी |
केन्द्रीकरण भी है
विकेन्द्रीकरण भी |
सशक्तिकरण भी है
संस्कृतिकरण भी |
बहुत कुछ पाया है
लोकतंत्र से हमने
जैसे—
उदारीकरण !
वैश्वीकरण !
निजीकरण !
इत्यादि |
हम जागरूक भी हैं !
जवाबदेह भी !
पारदर्शी भी और
उत्तरदायी भी !!
क्योंकि ?
हमारे पास है !
विश्व का सबसे बड़ा
और सशक्त लोकतंत्र ||
———————————
— डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”

Author
डॉ०प्रदीप कुमार
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended Posts
लोकतंत्र
लोकतंत्र गुलाम है परिवारवाद का वंशवाद का सदियों से और आज भी मिली आजादी किसे? सोचो जरा तुम्हें या इन्हें? तानाशाह कल भी थे और... Read more
भारत में लोकतंत्र : उद्देश्य एवं उपलब्धियाँ
"भारत में लोकतंत्र : उद्देश्य एवं उपलब्धियाँ " ============================ जन का जनता के लिए ,जन का ऐसा कार | अपनी मर्जी से चुनें , सुयोग्यतम... Read more
हम नेता ही लोकतंत्र के रखवाले है
हम नेता ही लोकतंत्र के रखवाले है एक नही सौ सौ गुंडे पाले है बाहर से है श्वेतवसन है पर मेरे कारनामे काले है हम... Read more
मतदान पर दोहे
लोकतंत्र का है यही, हम सबको पैगाम अपना मत देकर सही, करें देश का काम सत्ता को समझो नहीं, नेताओं जागीर जनता के इक वोट... Read more