.
Skip to content

नजरों में गिरना नहीं, कभी किसी के यार !

RAMESH SHARMA

RAMESH SHARMA

दोहे

January 12, 2017

नजरों में गिरना नहीं, कभी किसी के यार !
दौलत से इज्जत बड़ी, मिले कहाँ हर बार !!

कोई न्यायाधीश हो, या हो मानव नेक !
लेता है निर्णय वही,.जैसा कहे विवेक !!
रमेश शर्मा.

Author
RAMESH SHARMA
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा
Recommended Posts
मुक्तक
कभी तो तेरे लब पर मेरा नाम आएगा! कभी तो मेरी चाहत का पैगाम आएगा! खींच लेगी तुमको कभी यादों की खूशबू, कभी तो तेरी... Read more
वो मेरी राह में दीवार बने बैठे है
RAMESH SHARMA शेर Feb 1, 2017
जो नसीहत मेरे किरदार से लेते थे कभी, वो मेरी राह में दीवार बने बैठे है .. वो समझते हों मुझे दूर भले ही खुद... Read more
रुतबा मेरे यार का (दोहे)
रुतबा मेरे यार का,...जैसे फूल पलास़ ! गर्दिश मे भी जो कभी,होता नही उदास !! दिल पर तुमको छोडकर, लिखा किसी का नाम ! जीवन... Read more
जीवन की परिभाषा
कवि संजय गुप्ता कभी सजना कभी संवरना, कभी मायूस हो जाना। कभी धूप की तपिश, सुनहरे सपनों की आशा। यही तो है जीवन की परिभाषा।।... Read more